Monday, 18 September 2017

मार्शल अर्जन सिंह की विदाई


कुण्डली

अर्जन ने अर्जन - किया, देश - धर्म - विश्वास
क्षण भर में चौंका दिया, लिखा नया इतिहास।
लिखा - नया - इतिहास, पाक की डूबी - लंका
अर्जन - किया - प्रयास, बजाया उसने - डंका ।
भागा - जरा - जहाज, पायलट करता - गर्जन
देश भक्ति का ताज, ओढ कर निकला अर्जन ।



No comments:

Post a comment