Thursday, 5 October 2017

शरद पूर्णिमा ने कहा

    दोहे - 13/11

शरद - पूर्णिमा ने कहा. प्यारे - भारत - वर्ष
तन मन में शुचिता रखो, तब होगा उत्कर्ष।

सावधान होकर सुनो, साफ - स्वच्छ हो देश
महके - तालों में कमल, पावन हो परि वेश।

पडोसियों की चाल को, करो - सदा नाकाम
मधुर भाव सबसे रखो, कहो सिया- वर राम।

देश - देव सबसे - बडा, कहो शकुन भगवान
उसकी गरिमा जान लो, करो उसी का गान।

आपस में तुम मत लडो, करो परस्पर प्यार
प्रगति - पंथ पर देश को, पहुँचाओ हर बार।

तोड - फोड जो देश में, करे अगर  दो - दण्ड
अपराधों की - श्र्रँखला, तोडो शीघ्र - प्रचण्ड ।

देश - धर्म की जीत हो, जपो यही शुभ - मंत्र
सुनो सदा सुख से रहो, अमर रहे गण - तंत्र।

अमृत - कलश थमा दिया, धर लो हिंदुस्तान
पुन: विश्व- गुरु तुम बनो, देती हूँ वर - दान ।

शकुन्तला शर्मा, भिलाई, छ्त्तीसगढ     

No comments:

Post a comment