Thursday, 20 February 2014

सूक्त - 24

[ऋषि- विमद ऐन्द्र । देवता- इन्द्र - अश्विनीकुमार । छन्द- आस्तार पंक्ति- अनुष्टुप् ।]

9023
इन्द्र सोममिमं पिब मधुमन्तं चमू सुतम् ।
अस्मे  रयिं  नि धारय वि वो मदे सहस्त्रिणं पुरुवसो विवक्षसे॥1॥


हे  पूजनीय  प्रभु  परमेश्वर  तुम  धरा - गगन  की  रक्षा  करना ।
यश-वैभव हमको देना प्रभु जन-मन का ध्यान तुम्हीं रखना॥1॥

9024
त्वां यज्ञेभिरुक्थैरुप हव्येभिरीमहे ।
शचीपते शचीनां वि वो मदे श्रेष्ठं नो धेहि वार्यं विवक्षसे ॥2॥

ज्ञान - निधान पूज्य परमेश्वर हम तुमको प्रणाम करते हैं ।
पर- हित में यह जीवन रत हो यही अपेक्षा हम करते हैं॥2॥

9025
यस्पतिर्वार्याणामसि रध्रस्य चोदिता ।
इन्द्र स्तोतृणामविता वि वो मदे द्विषो नःपाह्यंहसो विवक्षसे॥3॥

इस  जगती  के परमेश्वर - प्रभु तुम सत्पथ पर ही ले चलना ।
तुम  ही  वसुधा  के  रक्षक हो सदा अनुग्रह हम पर करना॥3॥

9026
युवं शक्रा मायाविना समीची निरमन्थतम् ।
विमदेन यदीळिता नासत्या ननिरमन्थतम्॥4॥

कर्म-योग की गरिमा अद्भुत मुझको यही मार्ग दिखलाना ।
मन के दोषों को हर लेना सुख की परिभाषा सिखलाना॥4॥

9027
विश्वे देवा अकृपन्त समीच्योर्निष्पतन्त्योः ।
नासत्यावब्रुवन्देवा:  पुनरा   वहतादिति॥5॥

हम  सबके  संकल्प  पूर्ण  हों  यश - वैभव  का  दे  दो दान ।
सत्पथ पर तुम प्रेरित करना देना अन्न और धन-धान॥5॥

9028
मधुमन्मे    परायणं     मधुमत्पुनरायनम् ।
ता नो देवा देवतया युवं मधुमतस्कृतम्॥6॥

इस  जग  में  आना  और  जाना सज्जन समुचित नेह निभाये।
वरद-हस्त हम पर रखना प्रभु आना-जाना सार्थक हो जाये॥6॥     
   

6 comments:

  1. आपकी यह उत्कृष्ट प्रस्तुति कल शुक्रवार (20.02.2014) को " जाहिलों की बस्ती में, औकात बतला जायेंगे ( चर्चा -1530 )" पर लिंक की गयी है, कृपया पधारें, वहाँ आपका स्वागत है, धन्यबाद ।

    ReplyDelete
    Replies
    1. धन्यवाद राजेन्द्र जी ! आभार आपका ।
      शश

      Delete
  2. स्वास्थ्य को सशक्त रखें देव।

    ReplyDelete
  3. धन्यवाद,वेद-सूत्रों से परिचय कराने के लिये.
    शुभ-शब्द,शुभ-फल देते ही हैं.

    ReplyDelete
  4. सीधे सीधे काव्यार्थ लिखने से वास्तविक अर्थार्थ संदेहास्पद रहते हैं.....वस्तुतः शब्दार्थों के साथ वाच्यार्थ लिखे जाने चाहिए ..ताकि अर्थ व गूढार्थ स्पष्ट हों ...क्योंकि मुझे लगता है कि वैदिक रिचाओं के ये इतने सामान्य अर्थ नहीं हो सकते ....

    ReplyDelete