Wednesday, 2 October 2013

मोहनदास करमचंद गॉंधी

मोहनदास   करमचंद  गॉंधी   यही   था  उनका  पूरा   नाम
र  घडी  सोचते  मातृभूमि  पर  कब  होगा  पूरा  यह काम।

  तलवार  न  बरछी  से  ही  बिन  रक्तपात के  हों आज़ाद
दास   नहीं   हम   अँग्रेज़ों   के  सत्याग्रह   से  होंगे  आबाद ।

मरथ को फिर साथ मिला आज़ाद भगत थे तिलक बोस
र्मयोग था  लक्ष्य  देह का यात्रा लंबी  थी अनगिन - कोस ।

त रहे निरंतर राष्ट्र - यज्ञ में स्वजनों का था सुन्दर - साथ 
न का मन से जो नाता था जनमन को फिर किया सनाथ ।

चंबा   से   फिर  रामेश्वर  तक   सत्याग्रह  अभियान  चला
धीचि सदृश उत्सर्ग हो गए यह थी उनकी जीने की कला ।

गॉंधी  का  वह  चरखा  अब  भी  देशी  का  पाठ  पढाता  है
धीर - वीर बन कर उभरो तुम वह  हर पल हमें सिखाता है ।

शकुन्तला शर्मा , भिलाई [ छ. ग. ]

10 comments:

  1. बहुत ही सुन्दर रचना।

    ReplyDelete
  2. आपकी यह उत्कृष्ट प्रस्तुति कल गुरुवार (03-10-2013) को "ब्लॉग प्रसारण : अंक 135" पर लिंक की गयी है,कृपया पधारे.वहाँ आपका स्वागत है.

    ReplyDelete
    Replies
    1. राजेन्द्र जी ! आभार आपका ।

      Delete
    2. सुन्दर रचना।

      Delete
  3. सुंदर भावों के साथ सार्थक विचारों की काव्‍य प्रस्‍तुति।

    ReplyDelete
  4. आज और सर्वसमय के लिए एक सर्वकालिक रचना

    ReplyDelete
  5. सुन्दर रचना।

    ReplyDelete
  6. बहुत अच्छी रचना है बधाई

    ReplyDelete